अभी पढ़ रहे हैं
प्लास्टिक को समझें: आपको इस समस्याजनक पॉलीमर के बारे में क्या जानना चाहिए और क्या भूलना चाहिए

प्लास्टिक को समझें: आपको इस समस्याजनक पॉलीमर के बारे में क्या जानना चाहिए और क्या भूलना चाहिए

Zarir De Vitre
  • किसी भी समस्या का समाधान करने के लिए सबसे ज़रूरी है उसे समझना। यहाँ पर हम प्लास्टिक की जटिल दुनिया को विभाजित कर के समझा रहे हैं ताकि आप आसानी से इसे समझकर अपने फैंसले ले सकें

प्लास्टिक हमारे चारों और है - बैग, खिलौने, बोतलें, पैकेट…लिस्ट अंतहीन है। ये हमारे समुद्र में पनप रहे जीवन का गाला घोंट रही है, हमारी हवा, ज़मीन और पानी को दूषित कर रही है और लैंडफिल में विशाल जगह घेर के बैठी है। हम अक्सर उसे एक जैसा ही मान लेते हैं पर हमें समझना चाहिए कि यह करना उसे अलग करने, फैंकने और रिसाइकल करने में बाधा डालता है। प्लास्टिक की परेशानी के समाधान के लिए सबसे ज़रूरी है उसके अलग-अलग प्रकार समझना क्योंकि हर प्रकार अपनी परेशानियों के साथ आता है।

तथ्य: ये कुछ तथ्य हैं जो इस समस्या को अच्छे से समझने में मदद करेंगे:

प्लास्टिक के प्रकार
प्लास्टिक को पॉलीमर से हिसाब से सात अलग-अलग कोड में बाँटा गया है। ये कोड ऐसी प्लास्टिक को पहचानने में मदद करते हैं जो रिसाइकल करने के लिए सुरक्षित नहीं होती है। क्योंकि सभी तरह की प्लास्टिक को एकदम से हटा देना मुश्किल है, इसके प्रकारों की जानकारी से उपभोक्ता यानि आपको ज़्यादा नुक़सानदायक प्लास्टिक को पहले हटाकर शुरू करने में आसानी होगी।

Polyethylene terephthalate AKA PET, PETE or Polyester

इमेज सोर्स: शटर्सस्टॉक

Items: Thin and clear containers for water and soft drinks, food jars, microwaveable trays

Recyclable: YES. Easy to recycle but can only be recycled once so its reuse is very limited!

Health impact: Under direct exposure to sunlight, it is known to leach harmful chemicals and endocrine disruptors that could lead to cancer, skin conditions and menstrual and pregnancy issues.

High-density polyethylene AKA HDPE

इमेज सोर्स: आईस्टॉक

Items: Thicker, opaque containers for milk, juice, shampoo, detergent

Recyclable: YES. Can be recycled into secondary products

Health impact: Considered safe to use and recycle with minimal chances of leaching.

Polyvinyl chloride AKA PVC, Vinyl or V

इमेज सोर्स: आईस्टॉक

Items: Rigid or flexible plastic used mainly in plumbing and cables but also in toys, packaging, oil jars, shower curtains, loose leaf binder, etc.

Recyclable: NO. Considered the most toxic and harmful form of plastic

Health impact: Contains carcinogens and endocrine disruptors that lead to hormonal and reproductive issues. Cannot be used in cooking or storing food item. Releases harmful dioxins when burned.

Low-density polyethylene AKA LDPE

इमेज सोर्स: आईस्टॉक

Items: Soft and flexible plastic used mainly in cling films, courier bags (e-commerce packaging), bubble wrap, packaging for frozen foods, flexible container lids, garbage and grocery bags, etc.

Recyclable: YES Can be recycled but not accepted by all recycling facilities

Health impact: Relatively safer but can leach endocrine disruptors when exposed to sunlight.

Polypropylene AKA PP

इमेज सोर्स: आईस्टॉक

Items: Hard and flexible plastic used in kitchenware and reusable microwaveable food containers, straws, bottle caps, ice cream containers, ketchup bottles, diapers etc.

Recyclable: YES

Health impact: Relatively safe and stable and used for food containers.

Polystyrene AKA PS, Styrofoam

इमेज सोर्स: आईस्टॉक

Items: Rigid and opaque plastic used in egg cartons, disposable cups and plates and disposable take away containers

Recyclable: NO. It contains neurotoxins

Health impact: It contains carcinogens and can release poisonous gases when heated.

Polycarbonate, Acrylic, Bioplastics

इमेज सोर्स: आईस्टॉक

Items: All other plastics including acrylic, polycarbonate, copolyester and Bioplastics used in baby bottles, DVDs, sunglasses, prescription glasses, etc.

Recyclable: NO

इमेज सोर्स: आईस्टॉक

Health impact: Plastics in this category can contain carcinogens and endocrine disruptors

रिसाइकल करना क्यों एक ज़रूरी लेकिन लघु अवधि का समाधान है।
सारी तरह की प्लास्टिक रिसाइकल करने योग्य नहीं होती है। कुछ प्रकार की प्लास्टिक ही दूसरों के मुक़ाबले रिसाइकल करने के लिए सुरक्षित होती है (जैसा कि टेबल में देख सकते हैं) । पी.ई.टी., एच.डी.पी.ई., पी.वी.सी. और एल.डी.पी. ई . आमतौर पर सबसे ज़्यादा रिसाइकल की जाती है। लेकिन पी.ई.टी.और दूसरी रिसाइकिल योग्य प्लास्टिक भी केवल एक बार ही रिसाइकिल की जा सकती है जिसके बाद वो दोबारा इस्तेमाल के लिए खराब हो जाती है। रिसाइकल कोड पर दिया हुआ नंबर प्लास्टिक के कम्पोज़िशन के बारे में बताता है और यह नहीं कि उसे कितनी बार रिसाइकिल किया जा सकता है। यह एक साधारण ग़लतफहमी है कि प्लास्टिक को अनेकों बार रिसाइकिल कर सकते हैं।

अगर प्लास्टिक को कपड़े में रिसाइकिल करते हैं तो उसे आगे रिसाइकिल नहीं किया जा सकता है। और फिर जब एक बार प्लास्टिक से बना हुआ जूता या टी-शर्ट ब्रेक- डाउन हो जाता है, उसे रिसाइकल होने के लिए नहीं डाल सकते हैं। वो आख़िरकार लैंडफ़िल में जाएगा।

रिसाइकिल न होने वाली प्लास्टिक को या तो लैंडफ़िल में भेजा जाता है, जला दिया जाता है दूसरे देशों में एक्सपोर्ट किया जाता है। प्लास्टिक वेस्ट को बनावट के अनुसार अलग नहीं किया जाता है इसीलिए उसे रिसाइकिल करना न ही सस्ता होता है न ही वो नए प्लास्टिक के उत्पादन को रोकता है।

इमेज सोर्स: शटर्सस्टॉक

एक नए प्रकार का दानव: मल्टी-लेयर प्लास्टिक
मल्टी-लेयर प्लास्टिक (एम.एल.पी.) कॉफ़ी के कप और पैकेजिंग में पाई जाती है जिसमें हैल्थ बार, चॉकलेट और बिस्कुट शामिल हैं। वैसे तो अधिकतर एम.एल.पी. में दो प्लास्टिक की शीटों के बीच में एल्युमीनियम की परत होती है, पर एम.एल.पी. का मतलब कोई भी ऐसा मेटिरियल हो सकता है जिसमें दो मेटिरियल की परत हों जिनमें से एक प्लास्टिक हो। इसमें अलग-अलग परत के अलग-अलग प्रकार होते हैं जिन्हें आसानी से अलग नहीं लिया जा सकता है इसीलिए एम.एल.पी. को रिसाइकिल करना बहुत समय लेने वाला महंगा काम है जिसके कारण ये प्लास्टिक वेस्ट की सबसे बड़ी श्रेणियों में आती है।

अभी के प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट रूल्स 2018 (अमेंड किये हुए) एम.एल.पी. के बारे में अस्पष्ट हैं जिसके कारण कम्पनियाँ इनको बनाकर इस्तेमाल किये जा रही हैं।

बायोडिग्रेडेबल प्लास्टिक से बचें
'बायोप्लास्टिक', 'बायो-बेस्ड प्लास्टिक', 'कम्पोस्टेबल' और 'बायोडिग्रेडेबल' प्लास्टिक जैसे शब्द आजकल बहुत चल रहे हैं और एक-दूसरे की जगह इस्तेमाल किये जाते हैं जबकि ये पर्यायवाची नहीं हैं। ये बहुत भ्रमित कर सकता है खासकर जब आप समझें कि इनमें से सभी बायोडिग्रेडेबल नहीं हैं और कुछ तो फ़ॉसिल-फ़्यूल से बने होते हैं। हमारे लिए यह ठीक तरह से समझना मुश्किल हो जाता है कि क्या बायोडिग्रेडेबल है और क्या नहीं क्योंकि इन शब्दों को अलग-अलग प्रकार से इस्तेमाल किया जाता है।

आसान शब्दों में कोई चीज़ बायोडिग्रेडेबल तब होती है जब जीवित चीज़ें जैसे बैक्टीरिया और फ़नजाइ इनको प्राकृतिक उत्पादों में बदल पाएँ जैसे पानी और कार्बन-डाई-ऑक्साइड। कॉर्नस्टार्च और सेल्यूलोस से बायोडिग्रडेबल बैग बनाये जा सकते हैं।

इसीलिए इस बात का ध्यान ज़रूर रखें कि आप किसी प्रोडक्ट को लेने के पहले उसकी पैकेजिंग डिटेल को ठीक से पढ़ें।

यह जानना भी ज़रूरी है कि बायोडिग्रेडेबल तत्व को भी तोड़े जाने के लिए सही माहौल चाहिए होता है जो हमारे लैंडफिल में आज नहीं है। इसपर ध्यान दें कि आप बायोडिग्रेडेबल मेटिरियल को समझदारी से डिस्पोज़ करें - या तो उसे कम्पोस्ट में डालें या मिट्टी के पैच में गाड़ें।

इमेज सोर्स: शटर्सस्टॉक

इन बातों से घबराएँ नहीं। आप इस तरह से प्लास्टिक को अपने जीवन से हटा सकते हैं:
आप अपने रोज़ाना के जीवन की ऐसी चीजों की लिस्ट बनाने से शुरू कर सकते हैं जिसमें प्लास्टिक की ख़रीद या इस्तेमाल होता है। एक बार आपको यह पता चल जाए कि उसका कितना इस्तेमाल आपके जीवन में हो रहा है, आप उसके विकल्प ढूँढ सकते हैं। आमतौर से आप सिंगल यूज़ या “यूज़ एंड थ्रो” प्लास्टिक के इस्तेमाल से बचें, ये सबसे ज़्यादा पैकिजिंग, मिनरल वॉटर की बोतलें और राशन के थैलों में पायी जाती है। ये कुछ ज़रूरी क्षेत्रों पर सुझाव हैं जो आपकी मदद कर सकते है:

घर और रसोई

  • सब्ज़ी को रियूज़ेबल कपड़े के बैग में ख़रीदें और रखें
  • खाने के सामान को काँच के बर्तनों में रखें
  • कॉम्पोस्ट हो जाने वाले और बायोडिग्रेडेबल गारबेज़ बैग ख़रीदें
  • खाद बनाये और प्लास्टिक कूड़े की थैली का प्रयोग कम करे
  • फ़्रोज़न फ़ूड से बचें, यह अक्सर सिंगल-यूज़ प्लास्टिक में लिपटा हुआ आता है
  • पेपर में लिपटी हुई ताज़ी ब्रेड ख़रीदें, सबसे अच्छा होगा कि आप बिना बैग वाली ब्रेड ख़रीदें
  • दूध को दोबारा काम में आने वाली काँच की बोतलों में लाएँ
  • खुद ताज़े फलों के जूस बनाएँ या ताज़े फल खाएँ, प्लास्टिक की बोतल या कार्टन वाले जूस से बचें
  • विनेगर, पानी और बेकिंग सोडा काम में ले कर सफ़ाई के प्रोडक्ट खुद बनाएँ
  • प्लास्टिक की जगह प्राकृतिक सफ़ाई के कपड़े और स्क्रब इस्तेमाल करें


कपड़े और फ़ैशन

  • प्लास्टिक से मुक्त फ़ाइबर के कपड़े पहनें जैसे कॉटन, हेम्प, सिल्क और ऊन
  • पॉलीएस्टर, अक्रिलिक, लाइक्रा, स्पैंडेक्स, नाइलोन - ये सारे प्लास्टिक फ़ैब्रिक होते हैं जो धुलने पर माइक्रोफ़ाइबर प्रदूषण पैदा करते हैं

स्कूल और ऑफ़िस

  • काँच और स्टील की बोतलें इस्तेमाल करें
  • काँच और स्टील के नाश्ते के और लंचबॉक्स पैक करें जिसमें रियूज़ेबल कटलरी हो
  • डिसपोज़ेबल पेन की जगह रीफ़िल होने वाले पेन काम में लें


शॉपिंग

  • अपने रियूज़ेबल कपड़े के बैग काम में लें और प्लास्टिक के बैग के लिए मना करें
  • किसी भी सिंगल-यूज़ पैकिजिंग के लिए मना करें
  • पर्यावरण के अनुकूल ब्रांड इस्तेमाल करें
  • ऑनलाइन ख़रीदारी के पहले सोचें क्योंकि इनकी पैकेजिंग अधिकतर सिंगल-यूज़ प्लास्टिक में आती है

बाथरूम

  • लकड़ी या बैम्बू का टूथब्रश और हेयर ब्रश काम में लें
  • प्लास्टिक की बोतल में आने वाले शॉवर जेल या लिक्विड की जगह साबुन काम में लें
  • ऐसे कॉसमेटिक काम में न लें जिनमें माइक्रोप्लास्टिक होते हैं - ऐसा कुछ भी काम में न लें जिसके इंग्रीडीयंट में ‘पॉलीइथाईलीन' लिखा हो
  • डिसपोज़ेबल रेज़र की जगह स्टेनलेस स्टील का रेज़र काम में लें
  • जहाँ भी सम्भव हो प्लास्टिक रहित मेन्स्ट्रूअल प्रोडक्ट काम में लें
  • बच्चों के लिए क्लॉथ डायपर का इस्तेमाल करें

View Comments (2)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll To Top

Eco-Conscious Shopping- एक्स्प्लोर करें

Shop Ethically- Earn Ethicoins

Shipping Flat Rs 99 for All Orders- एक्स्प्लोर करें